Child Care Leave (चाइल्ड केयर लीव)

Child Care Leave (चाइल्ड केयर लीव)

( नियम 103 सी )

वित्त विभाग राजस्थान के Notification No. F.1(6)FD/ Rules/20U Jaipur, dated : 31. 07- 2020 के द्वारा चाइल्ड केअर के नियमों में कुछ परिवर्तन किया गया है। उक्त नोटिफिकेशन द्वारा अब यह एकल पुरूष कर्मचारियों को भी देय है। नोटिफिकेशन की जानकारी प्राप्त करने के लिये यहां क्लिक करें।

Child Care Leave (चाइल्ड केयर लीव) उक्त नोटिफिकेशन के मुख्य बिन्दू

महिला/एकल पुरूष को संपूर्ण सेवाकाल में 730 दिन का चाइल्ड केअर अवकाश देय है।

सम्पूर्ण सेवाकाल में देय 730 दिन के चाइल्ड केअर लीव में से प्रथम 365 दिन के लिये अवकाश पर अवकाश से प्रस्थान करने के पूर्व वेतन के 100 प्रतिशत के बराबर वेतन देय है तथा अन्य 365 दिन के लिये अवकाश से प्रस्थान करने के पूर्व के 80 प्रतिशत के बराबर वेतन देय है।

एक बार में न्यूनतम 5 दिन का चाइल्ड केअर लीव लिया जा सकता है।

वित्त विभाग नियम अनुभाग राजस्थान सरकार द्वारा राजस्थान सेवा चतुर्थ संशोधन नियम 2018 नियम 103 सी चाइल्ड केयर लीव विषयक अधिसूचना क्रमांक-प.1(6)/वित्त/नियम/2011, जयपुर दिनांक-22 मई 2018

एक महिला कर्मचारी को सम्पूर्ण सेवा काल में 730 दिवस (अधिकतम दो वर्ष) का चाइल्ड केयर लीव सक्षम अधिकारी द्वारा स्वीकृत किया जा सकेगा ।

बच्चे से आशय (1) 18वर्ष से कम आयु का बच्चा (2) 40 प्रतिशत निःषक्त सन्तान जिसकी अधिकतम आयु 22 वर्ष तक की आयु तक बीमारी के समय देखभाल/विकलांगता के कारण बच्चे का लालन-पालन, बच्चे की सैकण्डरी /सीनियर सैकण्डरी/शिक्षण कार्य के समय देखभाल तथा 3 वर्ष की आयु के बच्चे का पालन करने हेतु चाइल्ड केयर लीव स्वीकृत की जा सकती है ।

यह अवकाश किसी भी अन्य अवकाष के साथ स्वीकृत किया जा सकता है ।

एक महिला कर्मचारी को एक समय में 120 दिन का अवकाश पूर्ण वेतन पर स्वीकृत किया जा सकता है। बच्चों की किसी मान्यता प्राप्त चिकित्सालय में टी बी, कैंसर रोग, कोढ तथा मानसिक रोग के निदान की चिकित्सा के लिए एक समय मे 300 दिवस तक का चाइल्ड केयर लीव देय होने पर दिया जा सकता है।

यह अवकाश अधिकार के रूप में नही मांगा जा सकता है । यह अवकाश एक कलेण्डर वर्ष में 3 बार से अधिक अवधि के लिए नही लिया जा सकता है ।

एक कैलेण्डर वर्ष में शुरू हो कर यदि अवकाश दूसरे कैलेण्डर वर्ष में पूर्ण होता है तो उस स्पेल (व्यतीत) अवकाश को शुरू होने वाले वर्ष में काउण्ट किया जायेगा ।

परिवीक्षाधीन अवधि में साधारणतया यह अवकाश स्वीकृत नही किया जयेगा। असाधारण परिस्थितियों में यदि यह अवकाश स्वीकृत किया जाता है तो परिवीक्षा अवधि मे वृद्धि की जायेगी ।

यह अवकाश उपार्जित अवकाश के समान मानते हुए स्वीकृत किया जायेगा ।

महिला कर्मचारी को चाइल्ड केयर लीव के दौरान अवकाश पर प्रस्थान करने से पूर्व प्राप्त वेतन के समान दर पर अवकाश वेतन की हकदार होगी ।

राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रारूप में अवकाश आवेदन सक्षम अधिकारी को पर्याप्त समय पर्व प्रस्तुत करना होगा ।

किसी भी परिस्थिति में अवकाश स्वीकृति अधिकारी की पूर्वानुमति के बिना कोई महिला कर्मचारी अवकाश का उपभोग नही करेगी।

चाइल्ड केयर लीव कर्तव्य से अनाधिकृत अनुपस्थिति के पश्चात् आवेदन करने पर किसी भी परिस्थिति में स्वीकार्य नही होगी ।

महिला कर्मचारी द्वारा पहले से उपभोग किये जा चुके अथवा उपभोग किये जा रहे अवकाशों को किसी भी परिस्थिति में चाइल्ड केयर लीव में परिवर्तित नही किया जा सकेगा ।

चाइल्ड केयर लीव को किसी अन्य अवकाश लेखे में नामें नही लिखा जायेगा। राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रपत्र में इसका पृथक् अवकाश लेखा संधारित किया जायेगा। और इसे सेवा पुस्तिका में चस्पा किया जायेगा ।

अवकाश स्वीकृति अधिकारी राजकार्य के सुचारू संचालन अथवा विभागीय लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए अवेदित अवकाश को अस्वीकृत कर सकता है ।

चाइल्ड केयर लीव रविवार और अन्य अवकाशों को इस अवकाश के पहले अथवा बाद में जोडा जा सकेगा। चाइल्ड केयर लीव के मध्य में आने वाले रविवार ,राजपत्रित और अन्य अवकाश अपार्जित अवकाश की तरह ही चाइल्ड केयर लीव में काउण्ट होंगे।

निःशक्त बच्चे के सम्बन्ध में अवकाश स्वीकृति से पूर्व सक्षम प्राधिकारी/मेडिकल बोर्ड से जारी निःशक्तता प्रमाण-पत्र के अलावा महिला कार्मिक पर बच्चे के आश्रित होने का प्रमाण-पत्र महिला कर्मचारी से लिया जायेगा ।

विदेश मे रह रहे बच्चे की अस्वथता अथवा परीक्षा आदि की स्थिति में अवकाश अधिकृत चिकित्सक/शिक्षण संस्थान से प्राप्त प्रमाण-पत्र के आधार पर स्वीकृत किया जा सकेगा।

विदेश में रह रहे अवयस्क बच्चे के सम्बन्ध में अवकाश लेने पर विदेश यात्रा सम्बन्धी अवकाश नियम/निर्देषेां का पालन करना होगा। 80 प्रतिशत अवकाश अवधि उसी देश में बितानी होगी जहाॅं बच्चा रह रहा है ।

देश या विदेश में किसी छात्रावास में रह रहे किसी बच्चे की परीक्षा आदि के दौरान अवकाश चाहे जाने पर महिला कार्मिक को यह स्पष्ठ करना होगा की वह बच्चे की देखभाल किस प्रकार करेगी।

वित्त विभाग (नियम अनुभाग) राजस्थान सरकार द्वारा राजस्थान सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियम-2018, नियम-103 ग (Child Care Leave) के सम्बन्ध में अधिसूचना क्रमांक: No.F.1(6)FD /Rules/2011 Jaipur, dated : 31.O7- 2020  के नवीनतम आदेश के अनुसार Child Care Leave पर जाने वाले महिला कार्मिक या एकल पुरूष कार्मिक को सम्पूर्ण सेवा काल में 18 वर्ष तक के प्रथम 2 बच्चों (न्यूनतम 40 प्रतिशत निःशक्तता के Case में 22 वर्ष तक के बच्चों) की  देखभाल (परीक्षा, अस्वस्थता या पालन पोषण) करने के लिए अधिकतम 2 वर्ष तक अर्थात 730 दिन की Child Care Leave सक्षम अधिकारी द्वारा देय है परन्तु अवकाश के दौरान कार्मिक का वेतन DDO द्वारा किसी भी हालत में  रोका (Defer) नहीं जाएगा अर्थात वेतन निरंतर बनता रहेगा। परन्तु उपरोक्त नियम के उपनियम-2(a)(i) के अनुसार प्रथम 365 दिन(Child Care Leave) तक तो पूरा वेतन (अवकाश पर जाने से पूर्व के वेतन के बराबर) मिलेगा एवं अगले 365 दिनों के लिए 80% (अवकाश पर जाने से पूर्व के वेतन का 80 %)  वेतन  ही मिलेगा।*

*Note-आहरण एवं वितरण अधिकारी चाहे तो अधिसूचना के बिंदु संख्या 2(iv) व 2(viii) एवं इसी आदेश के बिंदु संख्या 04 के अनुसार राजकीय/प्रशासनिक कारणों या छात्रहित में CCL अवकाश को अस्वीकृत भी कर सकता है क्योंकि CCL अवकाश कार्मिक का अधिकार नही है बल्कि केवल एक सुविधा है जो स्वीकृतकर्ता प्राधिकारी की अनुमति से ही ली जा सकती है।

वित विभाग (नियम अनुभाग), राजस्थान सरकार द्वारा राजस्थान सेवा (चतुर्ध संशोधन) नियम-2018. नियम-103ग (चाइल्ड केअर लीव) विषयक अधिसूचना क्रमांक (6) वित्त/नियम/2011 जयपुर, दिनांक: 22 मई 2018 का हिंदी भावानुवाद

(1) महिला कर्मचारी को परीक्षा, अस्वस्थता अथवा पालन-पोषण आदि किसी भी आवश्यकताओं की स्थिति में उसके प्रथम दो जीवित बच्चों की देखभाल के लिए सम्पूर्ण सेवाकाल के दौरान अधिकतम दो वर्ष अर्थात 730 दिन का ‘चाइल्ड केअर लीव’ सक्षम अधिकारी द्वारा स्वीकृत किया जा सकेगा। बच्चे से आशय है-

(ए) 18 वर्ष से कम आयु का बच्चा। (बी) सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार की अधिसूचना क्रमांकः 16-18/NII दिनांक: 01.06,2001 में वर्णित अनुसार न्यूनतम 40 फीसदी निःशक्तायुक्त संतान जिसकी आयु 22 वर्ष से कम हो।

(2) चाइल्ड केअर लीव की स्वीकृति निम्नलिखित शतों के अध्यधीन होगी-

 (i) महिला कर्मचारी चाइल्ड केअर लीव के दौरान अवकाश प्रस्थान करने से पुर्व प्राप्त वेतन के समान दर पर अवकाश वेतन की हकदार होगी।

(ii) चाइल्ड केअर लीव को किसी भी अन्य देय अवकाश के साथ संयुक्त किया जा सकेगा। (iii) राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रारूप में अवकाश स्वीकृति हेतु आवेदन सक्षम अधिकारी को पर्याप्त समय पूर्व देना होगा।

(iv) चाइल्ड केअर लीव का दावा अधिकारपूर्वक नहीं किया जा सकेगा। किसी भी परिस्थिति में अवकाश स्वीकृति अधिकारी की पूर्वानुमति के बिना कोई महिला कर्मचारी अवकाश का उपभोग नहीं करेगी।

(v) चाइल्ड केयर लीव कर्तव्य से अनधिकृत अनुपस्थिति के पश्चात् आवेदन करने पर किसी भी परिस्थिति में स्वीकार्य नहीं होगी।

(vi) महिला कार्मिक द्वारा पहले से ही उपभोग किए जा चुके अथवा उपभोग किए जा रहे अवकाशों को किसी भी परिस्थिति में चाइल्ड केयर लीव में परिवर्तित नहीं किया जा सकेगा।

(vii) चाइल्ड केअर लीव को किसी अन्य अवकाश लेखे में नामें नहीं लिखा जाएगा। राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रपत्र में इसका पृथक अवकाश लेखा संधारित किया जाएगा और इस सेवा पुस्तिका में चस्पा किया जाएगा।

(viii) अवकाश स्वीकृति अधिकारी राजकार्य के सुचारू संचालन अथवा विभागीय लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आवेदित अवकाश को अस्वीकृत कर सकता है।

(ix) चाइल्ड केअर तोच एक कैलेण्डर वर्ष में तीन चार से अधिक स्वीकृत नहीं की जाएगी। एक कैलेण्डर वर्ष में शुरू होकर यदि अवकाश दुसर कैलेण्डर वर्ष में पूर्ण होता है तो उस स्पेल को अवकाश शुरू होने वाले वर्ष में काउंट किया जाएगा।

(x) सामान्यतः यह अवकाश परिवीक्षाधीन प्रशिक्षण अवधि में स्वीकार्य नहीं होगा। विशेष परिस्थितियों में स्वीकृत होने की स्थिति में परिवीक्षाकाल उतनी ही अवधि के लिए आगे बढ़ाया जाएगा।

xi) इस अवकाश को उपार्जित अवकाश की तरह स्वीकृत और व्यवहृत किया जाएगा।

(xii) रविवार और अन्य अवकाशों को इस अवकाश के पहले अथवा बाद में जोड़ा जा सकेगा। चाइल्ड केअर लीव के मध्य में आने वाले रविवार, राजपत्रित और अन्य अवकाश उपार्जित अवकाश की तरह ही चाइल्ड केअर लीव में काउंट होंगे।

(xiii) निःशक्त बच्चे के संबंध में अवकाश स्वीकृति से पूर्व सक्षम प्राधिकारी/ मेडिकल बोर्ड से जारी निःशक्तता प्रमाण पत्र के अलावा महिला कार्मिक पर बच्चे के आश्रित होने का प्रमाण-पत्र महिला कर्मचारी से लिया जाएगा।

(xiv) विदेश में रह रहे बच्चे की अस्वस्थता अथवा परीक्षा आदि की स्थिति में अवकाश अधिकृत चिकित्सक/शिक्षण संस्थान से प्राप्त प्रमाण-पत्र के आधार पर स्वीकृत किया जा सकेगा। विदेश में रह रहे अवयस्क बच्चे के सम्बन्ध में अवकाश लेने पर विदेश यात्रा सम्बन्धी अवकाश के नियम/निर्देशों का पालन करना होगा और 80 प्रतिशत अवकाश अवधि उसी देश में बितानी होगी जहाँ बच्चा रह रहा है।

(xv) देश या विदेश में किसी छात्रावास में रह रहे बच्चे की परीक्षा आदि के दौरान अवकाश चाहे जाने पर महिला कार्मिक को यह स्पष्ट करना होगा कि वह बच्चे की देखभाल किस प्रकार से करेगी।

डिस्क्लेमर- मूल अधिसूचना से भिन्नता/ अस्पष्टना की स्थिति में अधवा आधिकारिक संदर्भ के लिए मूल पाठ का परिशीतन अवश्य कर लें यह प्रस्तुति केवल हिंदीभाषी कर्मचारी/ अधिकारियों की सहायतार्थ और सुलभ अर्थग्रहण के लिए है।

You may also Read “Maternity Leave Rule in Rajasthan

error: Content is protected !!